Back
Home » स्‍वास्‍थ्‍य
स्‍ट्रेस ऐसे बॉडी पर डालता है असर, इन टिप्स से पाएं राहत
Boldsky | 9th Jul, 2018 02:20 PM

आजकल की भागदौड़ भरी ज़िंदगी में हर जगह तनाव है, यह एक ऐसा शब्द है जिसे आप हर दिन अपने आसपास रहनेवाले लोगों में से किसी ना किसी से सुन ही लेते हैं।

दुनिया की 80% आबादी ने दैनिक आधार पर तनाव का अनुभव किया है। 15 से 25 साल की उम्र के कई लोगों ने तनाव के मैनेजमेंट में मदद की रिपोर्ट की है और अगर वे उस उम्र में स्ट्रेस मैनेजमेंट नहीं सीख पाते हैं, तो बाद में उनके लिये तनाव को मैनेज करना मुश्किल हो जाता है।

तनाव के ज़्यादातर मामले की रिपोर्ट कार्यस्थलों (वर्कप्लेस) से मिलती है। युवा लोग तनावग्रस्त होने की इस बढ़ती प्रवृत्ति से पीड़ित होते दिख रहे हैं। तनाव एक तरह से संक्रामक होता है। हां, आपने बिल्कुल सही पढ़ा है। कई अध्ययनों से पता चलता है कि जब एक तनावग्रस्त व्यक्ति के साथ आप रहते हैं तो आपके ऊपर भी उसका प्रभाव पड़ता है।

तो, तनाव क्या है?

तनाव जीवन के अनुभव, खतरे और खतरे पर प्रतिक्रिया करने का शरीर का तरीका है। यह आपके शरीर की रक्षा करने का तरीका है। अगर स्वस्थ स्तर पर बात करें तो तनाव आपको चुनौतियों से निपटने, ध्यान केंद्रित करने, सतर्क और ऊर्जावान रहने में मदद कर सकता है। लेकिन एक सीमा के बाद ये चिंता, बेचैनी, सिर दर्द, सीने में दर्द, अवसाद, यौन इच्छा, थकान, क्रोध आदि की वजह बन सकते हैं।

तनाव आपके शरीर में हर प्रणाली को प्रभावित कर सकता है। यहां देखें कैसे-

1. इम्यून सिस्टम (प्रतिरक्षा प्रणाली)

2. रीप्रोडक्टिव सिस्टम (प्रजनन प्रणाली)

3. मस्कुलर सिस्टम (मांसपेशी प्रणाली)

4. डाइजेस्टिव सिस्टम (पाचन तंत्र)

5. कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम

6. श्वसन प्रणाली

7. सेंट्रल नर्वस सिस्टम (केंद्रीय तंत्रिका तंत्र)

1. प्रतिरक्षा प्रणाली:

जैसा कि हम जानते हैं कि तनाव, त्वरित कार्रवाई के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्तेजित करता है। यह संक्रमण और खुले घावों के मामले में सहायक हो सकता है जहां तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता होती है। लेकिन अगर शरीर लंबे समय से तनाव में है, तो प्रभाव उल्टा हो जाता है।

जो लोग लगातार तनाव में रहते हैं वे सामान्य सर्दी और फ्लू से अधिक प्रभावित होते हैं। तनाव हार्मोन प्रतिरक्षा प्रणाली को कमज़ोर करते हैं और जल्दी से प्रतिक्रिया देने की क्षमता को भी कम करते हैं। आप यह भी देख सकते हैं कि बीमारियों से ठीक होने के लिए शरीर को ज़्यादा समय और ऊर्जा लगती है।

2. प्रजनन प्रणाली:

जब पुरुष तनाव में होते हैं तो टेस्टोस्टेरोन उच्च स्तर पर उत्पादित होता है लेकिन यह ज़्यादा समय तक नहीं रहता है, जिसका मतलब है कि आप अपनी इच्छा खो देते हैं। यह इसलिए भी है क्योंकि एक तनावग्रस्त शरीर हमेशा थका रहता है और ऊर्जा की कमी होती है। अधिक गंभीर परिस्थितियों में, इरेक्टाइल दोष का भी खतरा रहता है।

वहीं ज़्यादातर तनाव में रहने पर महिलाओं को पीरियड के दौरान सामान्य से ज़्यादा दर्द और अनियमितता की शिकायत रहती है और काम-इच्छा में कमी भी होती है।

3. मस्कुलर सिस्टम:

जब तनाव होता है, तो आपकी मांसपेशियों में दिक्कत महसूस होती है। ज़ाहिर है तनाव से छुटकारा पाने पर आपकी मांसपेशियों को आराम मिलेगा। लेकिन अगर आप लगातार तनाव में रहते हैं तो निश्चित ही आपको मांसपेशियों में दर्द की शिकायत रहती है।

इसका मतलब है कि आपकी मांसपेशियों को लगातार सिरदर्द, ज्वाइंट इंजरी, मांसपेशी स्पैम, पीठ दर्द, कंधे के दर्द, या पूरे शरीर में दर्द का एहसास हो सकता है। ऐसे में आपको मेडिकल अटेंशन की ज़रूरत होती है।

4. पाचन तंत्र:

तनाव से आपके डाइजेसटिव सिस्टम यानि कि पाचन तंत्र पर भी बुरा असर पड़ता है। तनाव की वजह से कब्ज़, दस्त, उल्टी, पेट दर्द, मतली, आदि की शिकायत हो सकती है। तनाव के दौरान, बॉडी की आवश्यक ऊर्जा को मेंटेन करने के लिए ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है।

यदि यह एक निश्चित स्तर को पार करता है तो आप डायबिटीज़ से पीड़ित हो सकते हैं। तेज़ी से सांस लेना, दिल की धड़कन का बढ़ना और हार्मोन में शुगर की वृद्धि आपके डाइजेस्टिव जूस प्रोडक्शन को प्रभावित कर सकती है, जिससे आपकी छाती में जलन और एसिडिटी की संभावना बढ़ जाती है।

5. कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम:

तनाव के दौरान जब आपकी हृदय गति बढ़ जाती है तो कोशिकाओं को सक्रिय बनाए रखने के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिये शरीर के माध्यम से अधिक रक्त पंप किया जाता है। मांसपेशियों को अधिक ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है, मस्तिष्क कोशिकाओं को प्रॉसेस करने के लिए ज़्यादा ऑक्सीजन की ज़रूरत होती है जिससे उच्च रक्तचाप होता है और स्ट्रोक होने का खतरा बढ़ जाता है।

6. श्वसन प्रणाली:

तनाव हार्मोन आपके श्वसन तंत्र में विनाश का कारण बनता है। ऐसे में लोग तेज़ी से सांस लेते हैं और ऐसा इसलिए होता है क्योंकि शरीर के माध्यम से अधिक ऑक्सीजन युक्त रक्त को ले जाने की ज़रूरत होती है। यदि आपको पहले से ही श्वास की दिक्कत हैं, तो लक्षण और बढ़ सकते हैं।

7. केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (सेंट्रल नर्वस सिस्टम):

यह प्रणाली काफी अहम है। तनाव की स्थिति में आपका शरीर जिस तरह से काम करता है या रिस्पॉन्स करता है उसके लिये यही सेंट्रल नर्वस सिस्टम ज़िम्मेदार है। हाइपोथैलेमस को स्ट्रेस हार्मोन - कोर्टिसोल और एड्रेनालाईन रिलीज़ करने के लिए सतर्क किया जाता है। ये हार्मोन रक्त में अधिक ऑक्सीजन को अवशोषित करते हुए पूरे शरीर में काम करता है और त्वरित प्रतिक्रियाओं के लिये प्रेरित करता है।

जब तनाव से छुटकारा पा लिया गया है तो हाइपोथैलेमस को फिर से शरीर को सामान्य रूप से वापस लाने के लिए संदेश भेजना होता है। क्रोनिक स्ट्रेस के तहत, ऑर्गन की यह क्षमता कभी-कभी बाधित हो जाती है और यह पूरे शरीर के लिए घातक हो सकता है।

क्रोनिक स्ट्रेस यानि की लंबे समय से तनाव में रहने की वजह से ओवरइटिंग, शराब की लत, नशीली दवाओं का इस्तेमाल, बहुत कम खाना और समाज से अलग रहने जैसी आदतें उत्पन्न होती हैं।

यह देखते हुए कि पूरे शरीर को तनाव कैसे प्रभावित कर सकता है, हमें इसे कम करने और आसपास के अन्य लोगों को ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करने की ज़रूरत है। आपको निश्चित ही ऐसा करना चाहिए क्योंकि कोई भी अपने शरीर को खतरे में डालकर जीवन नहीं जीना चाहता है।

ऐसे कई आसान तरीके हैं जिनकी मदद से आप तनाव को कम कर सकते हैं-

• कम से कम 5 मिनट के लिए मेडिटेशन करें और गहरी सांस लें।

• मेडिटेशन धीरे-धीरे करें और उस पल को महसूस करें।

• यदि ज़रूरी हो, तो किसी पेशेवर या प्रियजन से मदद लें।

• अपने शरीर की आवश्यकता को समझें।

• आपके पास जो कुछ है उसके लिए आभारी रहें और उन चीज़ों के पीछे ना भागें जिससे आपके शरीर पर बुरा असर पड़ सकता है।

तनाव मुक्त रहें, अपने शरीर का ख्याल रखें और देखभाल करें क्योंकि यह आपका पवित्र मंदिर है।

   
 
स्वास्थ्य