Back
Home » जरा हट के
सबरी माला मंदिर ही नहीं इन जगहों पर भी है महिलाओं के प्रवेश पर मनाही
Boldsky | 28th Sep, 2018 05:15 PM
  • मुक्तागिरी जैन मंदिर, मध्यप्रदेश

    मध्यप्रदेश राज्य के गुना शहर में स्थित जैनों के प्रसिद्ध तीर्थ स्थल मुक्तागिरी तीर्थ में कोई भी महिला पाश्चात्य परिधान पहनकर प्रवेश नहीं कर सकती। मंदिर परिसर में ऐसे पहनावे पर पूर्ण प्रतिबंध है।


  • कार्तिकेय मंदिर, पुष्कर, राजस्थान

    राजस्थान का प्रसिद्ध तीर्थस्थल पुष्कर में स्थित कार्तिकेय मंदिर में भी महिलाओं का प्रवेश वर्जित है।


  • पद्मनाभस्वामी मंदिर, केरल

    पद्मनाभस्वामी मंदिर भारत के केरल राज्य के तिरुअनंतपुरम में स्थित भगवान विष्णु का प्रसिद्ध मंदिर है। पद्मनाभ स्वामी मंदिर विष्णु-भक्तों की महत्वपूर्ण आराधना-स्थली है। मान्यता है कि सबसे पहले इस स्थान से विष्णु भगवान की प्रतिमा प्राप्त हुई थी। जिसके बाद उसी स्थान पर इस मंदिर का निर्माण किया गया है। इस मंदिर में महिलाओं का प्रवेश वर्जित है। इस मंदिर की एक अन्य विशेषता यह है की यह भारत का सबसे अमीर मंदिर है।

    Most Read : सबरीमाला मंदिर में महिलाएं कर सकेंगी प्रवेश, जानें क्यों था प्रतिबंध?


  • निज़ामुद्दीन औलिया की दरगाह

    दक्षिणी दिल्ली में स्थित हजरत निज़ामुद्दीन औलिया का मकबरा सूफी काल का एक पवित्र दरगाह है। इस दरगाह में औरतों का प्रवेश निषेध है। हजरत निज़ामुद्दीन चिश्ती घराने के चौथे संत थे।


  • जामा मस्जिद

    दिल्ली का जामा मस्जिद भारत की सबसे बड़ी मस्जिदों मे से एक जामा मस्जिद में भी सूर्यास्त के बाद महिलाओं का प्रवेश निषेध है। इस दरगाह में औरतों का प्रवेश करना मना है।

    Most Read : अवैध संबंध बनाने पर कहीं पड़ते है कोड़े तो कहीं देना पड़ता है जुर्माना, जाने दुनियाभर के कानून


  • हाजी अली दरगाह (मुंबई)

    बाबा हाजी अली शाह बुखारी की दरगाह सांप्रदायिक सद्भाव के लिए प्रसिद्ध है। ये मुंबई के वर्ली समुद्र तट के छोटे द्वीप पर है। हाजी अली दरगाह का सबसे भीतरी हिस्से में औरतों का जाना मना है। दरगाह श्राइन बोर्ड की मानें तो इस्लाम शरीयत कानून के अनुसार किसी भी पवित्र कब्र के निकट महिलाओं का प्रवेश वर्जित है।




केरल के सबसे प्रसिद्ध और विवादित सबरीमाला मंदिर में औरतों के प्रवेश से रोक हटा दी गई है। अब हर उम्र की महिलाओं के ल‍िए इस मंदिर के द्वार खोल दिए गए है। सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक बेंच के मुताबिक हर किसी को, बिना किसी भेदभाव के मंदिर में पूजा करने की अनुमति मिलनी चाहिए।

लेकिन आपको बता दें भारत का यह एकलौता मंदिर नहीं था, जहां महिलाओं का जाना वर्जित है बल्कि और भी ऐसे भगवान के द्वार हैं जहां महिलाओं के साथ ऐसा ही व्यवहार किया जाता है। यहां जानिए भारत के ऐसे ही कुछ पवित्र स्थलों के बारे में जहां महिलाओं के प्रवेश पर मनाही है।

   
 
स्वास्थ्य