Back
Home » जरा हट के
फ्रांस में कैचअप तो सिंगापुर में चुंईगम है बैन, जानिए कहां क्‍या खाने पर है प्रतिबंध
Boldsky | 14th Nov, 2018 11:45 AM
  • टमेटो कैचअप

    अगर आप फ्रांस जा रहे हैं तो वहां अगर आप फ्रेंच डिशेज ट्राय कर रहे हैं तो भूल से भी टमेटो कैचअप न मांगे। क्‍योंकि फ्रांस सरकार ने 2011 में ही एलिमेंट्री स्‍कूलों से टमेटो कैचअप को बैन कर द‍िया था, इसके पीछे की वजह थी कि ताकि वहां आने वाले पर्यटक और स्‍थानीय लोगों पारम्‍पारिक फ्रैंच व्‍यंजनों का लुत्‍फ उठा सकें और पारम्‍पारिक स्‍वाद बरकरार रहें।


  • च्‍युइंगम पर बैन

    सफाई और सीफूड के ल‍िए जाना जाने वाला देश सिंगापुर में च्‍युइंगम चबाने पर सख्‍त पाबंद ही है। अगर इस देश में कोई स्‍थानीय जन या पर्यटक च्‍युइंगम चबाते हुए दिख जाता है तो उसे भारी जुर्माना देना पड़ सकता है।


  • समोसा पर बैन

    हां बिल्‍कुल सही पढ़ा, कई देशों में समोसा बड़े चाव से खाया जाता है और हमारे देश के प्रत्येक शहर के गली-मोहल्लों में सबसे ज्यादा बिकता है। पर सोमालिया में यह साल 2011 से पूरी तरह से बैन है। इसका कारण उसके शेप को लेकर जुड़ी आपत्तियों को बताया गया है। यहां की सरकार ने ईसाई धर्म के लोगों के कहने पर समोसे पर बैन लगा दिया। उनका मानना है कि यह तिकोने आकार का होता है और यह आकार ईसाईयों के धर्म-चिन्ह को दर्शाता है.


  • खुला दूध और बादाम

    हमारे देश में अधिकांश खाने-पीने की चीजें खुले में बिकती हैं, जिनमें दूध सबसे ज्यादा है. इसके अलावा कई और चीजें हैं जो ज्यादातर खुले में बेची जाती हैं. पर अमेरिका में अधिकांश खुली वस्तुओं की बिक्री पर रोक है. वहां खुला दूध नहीं बेचा जाता. वहीं यूएसए के 22 राज्यों में बादाम खुले में बेचने पर पूरी तरह से प्रतिबंधित है।


  • किंडर एग

    बच्‍चों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए सरकार ने सालों से इस पर बैन लगा रखा है, जबकि दूसरे देशों में ये बेचा जाता है, बच्चे इसे खूब खाते हैं। किंडर एग को और लुभावना बनाने के लिये कंपनी इसे चॉकलेट फ्लेवर के साथ लाने की तैयारी कर रही है, ताकि बच्चों को लुभाया जा सके।


  • जेली मिनी कप्स

    यूरोपियन यूनियन में जेली मिनी कप्स बैन कर दिए गए हैं और इसके पीछे वजह है इसमें E425 कंटेंट होता है, जिसकी लत बच्‍चों को जल्‍दी लग जाती है। बच्‍चों के स्‍वास्‍थय को देखते हुए इसे यूरोपियन यूनियन राष्‍ट्र में बैन कर दिया गया है।


  • बीफ

    धार्मिक कारणों के वजह से भारत में गाय का मांस बेचना और खाना दोनों ही दंडनीय अपराध माना जाता है। हालांकि इसे लेकर भी अलग-अलग राज्‍यों में अलग- अलग कानून हैं।


  • वेजिटेरियन फूड

    फ्रांस के स्कूलों के कैंटीनों में वेजिटेरियन फूड बैन हैं। इसके पीछे कारण यह बताया गया कि बच्चों को जरूरी पोषक तत्व मांसाहारी खाने से ही मिल सकता है।


  • हॉर्स मीट

    यूएस और यूरोपियन कंट्री में हॉर्स मीट यानी घोड़े के मीट पर बैन है, अगर कोई इस नियम की अनदेखी करता हुआ पकड़ा जाएगा, तो उससे भारी जुर्माना भी वसूला जा सकता है। घोड़े का मीट खाने के लिये इन्हें मारने पर विशेष पाबंदी है, अगर कोई ऐसा करता है, तो उसे जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है।




जब कभी आप दुनिया के किसी नए कोने को एक्‍सप्‍लोर करते हो वहां की नई चीज भी आप ट्राय करना पसंद करते हैं, खासतौर पर वहां का फूड। विदेश यात्रा के दौरान आप ऐसा कुछ नया जरुर चखना चाहते होंगे, जिसके बारे में अपने आज तक सिर्फ सुना ही होगा और उसे टेस्‍ट करें घर आकर आप फूड एक्‍सप्‍लोरिंग के बारे में भी सुना सकें। जरा सोचिएं क्‍या हो जब आप विदेश जाकर कुछ नया खाना चाहते हो और आपको मालूम चले कि आपकी फेवरेट डिश उस देश में प्रतिबंध है तो?

ऐसा हर जगह होना तो संभव नहीं है लेकिन दुनियाभर में ऐसे कई जगह है जहां कुछ फूड आइटम्‍स पर बैन लगा हुआ है। जी हां, आपको सुनकर थोड़ा आश्‍चर्य जरुर होगा लेकिन जब अगली बार आप विदेश यात्रा पर जा रहे हो तो ये जरुर मालूम कर लीजिएगा वहां आपकी फेवरट डिश बैन तो नहीं है। आइए जानते है दुनिया के किस कोने पर क्‍या-क्‍या चीज खाने पीने पर बैन है।

   
 
स्वास्थ्य