Back
Home » स्‍वास्‍थ्‍य
सर्दियों में जरुर खाएं हल्‍दी की सब्‍जी, नहीं लगेगी ठंड और स्‍ट्रॉन्‍ग होगी इम्‍यूनिटी
Boldsky | 29th Nov, 2018 05:21 PM
  • मधुमेह के रोगियों के ल‍िए जड़ीबूटी

    कच्ची हल्दी में इंसुलिन के स्तर को संतुलित करने का गुण होता है। इंसुलिन के अलावा यह ग्लूकोज को नियंत्रित करती है जिससे मधुमेह के दौरान दी जाने वाली उपचार का असर बढ़ जाता है। हल्‍दी का सेवन करने से पहले मधुमेह के रोगी इस बारे में डॉक्‍टर्स से जरुर सलाह लें।


  • इंफेक्‍शन से बचाएं

    कच्ची हल्दी में एंटीबैक्टीरियल और एंटी सेप्टिक गुण होते हैं। इसमें इंफेक्शन से लडने के गुण भी पाए जाते हैं। इसमें सोराइसिस जैसे त्वचा संबंधित रोगों से बचाव के गुण होते हैं। इसके अलावा ये मौसमी बीमारी जैसे जुकाम और खांसी से भी राहत देती है।


  • इम्‍यून सिस्‍टम को रखें मजबूत

    हल्दी में लिपोपॉलीसेच्चाराइड नाम का तत्व होता है इससे शरीर में इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। हल्दी इस तरह से शरीर में बैक्टेरिया की समस्या से बचाव करती है। यह बुखार होने से रोकती है। इसमें शरीर को फंगल इंफेक्शन से बचाने के गुण होते है।


  • कैंसर को रखे दूर

    कच्‍ची हल्‍दी में कैंसर ये लड़ने के गुण होते हैं। यह खासतौर से पुरुषों में होने वाले प्रोस्‍टेट कैंसर के कैंसर सेल्‍स को बढ़ने से रोकने के साथ ही उन्‍हें खत्‍म कर देती है। हल्‍दी रेडिएशन के संपर्क में आने से होने वाले ट्यूमर से भी बचाव करती है।


  • सामग्री

    कच्ची हल्दी - 250 ग्राम
    प्याज - 1 बारीक कटा हुआ
    अदरक - 100 ग्राम, कद्दूकस किया हुआ
    लहसुन की कलियां - 6 पिसी हुई
    जीरा आधा चम्मच
    लौंग - 5
    नमक - स्वादानुसार
    हींग - 1 चुटकी
    गरम मसाला... पाउडर - ½ छोटा चम्मच
    लाल मिर्च पाउडर - 1 ½ छोटा चम्मच...
    सौंफ पाउडर - 1 छोटा चम्मच
    धनिया पाउडर - 2 छोटे चम्मच
    बड़ी इलायची - ½ छोटा चम्मच
    हरा धनिया - गार्निशिंग के लिए कालीमिर्च - 10
    घी - 200 ग्राम
    टमाटर - 250 ग्राम
    8-10 हरी मिर्च
    दही - 400 से 500 ग्राम
    देसी घी - 250 ग्राम


  • रेसिपी

    कच्ची हल्दी की सब्जी बनाने के लिए आप एक पैन में घी गर्म करके कच्ची हल्दी को गोल्डन ब्राउन होने तक अच्‍छे से फ्राई करें।

    जब कच्ची हल्दी फ्राई हो जाए तब आप उसे एक प्लेट में निकालकर अलग से रख लें।
    अब आप तेल में प्याज को डालें और उसे भी भूनें। जब प्याज भी हल्का ब्राउन हो जाए तब आप इसे निकाल कर अलग से प्लेट में रख लें।
    एक बाउल लें और उसमें दही डालें इसके बाद आप इसमें मिर्च पाउडर, धनिया, नमक डालकर अच्छे से फैट लें।
    गैस पर एक पैन में घी गर्म करें इसमें सबसे पहले सौंफ डालें।
    अब इसमें अदरक का पेस्ट डालें।
    जब अदरक थोड़ी भून जाए तब आप इसमें गरम मसाला, जीरा, पिसा हुआ लहसुन और हरी मिर्च के टुकड़े डालकर थोड़ी देर भूनें।
    ये पेस्ट जब तेल में अच्छे से भून जाए तब आप इसमें दही वाला मिश्रण मिलाएं।
    अब इसे थोड़ी देर तक हल्की आंच पर भूनने दें और बीच-बीच में करछी हिलाते रहें। ताकि मसाला पैन में नीचे चिपके नहीं।
    अब इस मिश्रण में आप पहले से फ्राई किया हुआ प्याज डालें।
    प्याज को इस मिश्रण के साथ 1 मिनट तक पकने के बाद आप इसमें बारीक कटे हुए टमाटर डाले साथ ही इसमें हल्दी भी डालें और इसे थोड़ी देर तक भूनें।
    इसमें धनिया डालकर आप इसे 10 मिनट के लिए ढक कर रख दें।
    अब इसमें fry की हुई कच्ची हल्दी भी डालें और उसे 1 मिनट तक पकाने के बाद आप इसे गैस से उतार लें। आपकी कच्ची हल्दी की सब्जी तैयार है।


  • काम की बात

    कच्ची हल्दी की सब्जी बनाने से पहले इसे तीन घंटे पहले छीलकर दूध में भिगो दे, इससे इसकी कड़वाहट कम हो जाएगी। कच्ची हल्दी का स्वाद और भी बढ़ जाएगा। अगर आप कच्ची हल्दी की सब्जी में मटर और गोभी भी मिलाकर बनाएंगे तो इसका स्वाद और भी अलग होगा।

    अगर आपको हल्‍दी की सब्‍जी ज्‍यादा दिनों तक खाना है तो हल्‍दी की सब्‍जी को घी की बजाय तेल में पकाएं। क्‍योंकि घी की वजह से ये सब्‍जी जल्‍दी जम जाती है।




हल्‍दी के फायदों के बारे में कौन नहीं जानता होगा, इसमें मौजूद एंटीबैक्‍टीरियल और एंटीसेप्टिक गुण हमें बीमार होने से बचाते है। लेकिन क्‍या आपको मालूम है देश के कई कोनो में इसके औषधीय गुणों को ध्‍यान में रखकर इसकी सब्‍जी भी बनाकर खाई जाती है।

जी हां, कच्‍ची हल्‍दी की सब्‍जी भी बनाई जाती है। जी हां, राजस्‍थान और गुजरात के कुछ ह‍िस्‍सों में सर्दी के मौसम में हल्‍दी की सब्‍जी बनाई जाती है। हल्‍दी की तासीर गर्म होती है इसल‍िए ये सब्‍जी सर्दियों में ठंड से बचाकर मौसमी बीमारियों से बचाकर शरीर की इम्‍यून‍िटी बढ़ाती है। कच्ची हल्दी, देखने में अदरक के समान ही दिखती है। इसे दूध में उबालकर, चावल के व्यंजनों में डालकर, अचार के तौर पर, चटनी बनाकर और सूप में मिलाकर सेवन किया जाता है। आइए जानते है इस सब्‍जी को बनाने की विधि और इसके फायदों के बारे में।

   
 
स्वास्थ्य