Back
Home » स्‍वास्‍थ्‍य
क्‍या रात को आपको भी ईयरफोन लगाकर म्‍यूजिक सुनते हुए सोने की आदत है, जान‍िए इसके दुष्‍परिणाम
Boldsky | 5th Dec, 2018 03:19 PM
  • बिगाड़ सकता है बॉडी क्‍लॉक

    हालांकि म्‍यूजिक सुनने से एक आराम मिलता है। मगर हम
    भूल जाते हैं कि हमारी बॉडी की अपनी एक आंतरिक घड़ी होती है जिसे सरकैडियन रिदम भी कहते हैं और हमें इस घड़ी के अनुसार चलना पड़ता है। अगर आप नियमित रूप से आर्टिफिशल साउंड सुनकर सोने की आदत डाल रहे हैं तो यह पूरी तरह से अनहेल्दी जो हमारे आंतरिक घड़ी या बॉडी क्‍लॉक को बिगाड़ सकता है।


  • मस्तिष्‍क रहता है एक्टिव

    देर रात तक ईयरफोन लगाकर म्यूजिक सुनने से हमारी नींद इसलिए भी प्रभावित होती है क्योंकि म्यूजिक सुनने के लिए हम अपने स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं जिससे की हमारा फोन पूरे समय हमारे पास ही रहता है। यहां तक की आराम करने और सोने के दौरान भी हमारा फोन हमारे पास ही रहता है। इस वजह से हमारा ब्रेन रेस्ट करने के दौरान भी ऐक्टिव मोड में रहता है और उसे आराम नहीं मिलता है।


  • कान को भी हो सकता है नुकसान

    जब आप म्यूजिक सुनते हुए सो जाते हैं तब आपका ब्रेन पूरी तरह से सो नहीं पाता। इसके कुछ पार्ट एक्टिव ही रहते हैं जिसकी वजह से अधूरी नींद में आपको उठना पड़ता है। इस वजह से शरीर को सामान्‍य 8 घंटे की नींद पूरी नहीं हो पाती है। आपकी हार्ट बीट भी नॉर्मल की तुलना में तेज हो जाती है, जो कि सेहत के लिए काफी नुकसानदेह है। सोते वक्त हाई वॉल्यूम पर ईयरफोन लगाकर म्यूजिक सुनने से बॉडी में और भी हार्मफुल इफेक्ट हो सकते हैं। सोते वक्त कान में ईयरफोन लगा रहे तो कान की स्किन पर प्रेशर पड़ता है और स्किन संबंधित समस्याएं भी होने लगती है। हो ज्‍यादा देर ईयरफोन से म्‍यूजिक सुनने से कानों में वैक्स बनने लगता है और आपके सुनने की क्षमता भी प्रभावित होती है।


  • रात को सोते हुए म्‍यूजिक नहीं सुनना चाहिए?

    रात को अच्‍छी नींद आने के ल‍िए म्‍यूजिक सुनने में कोई हर्ज नहीं है। मगर आपको सोते वक्‍त ईयरफोन ठूंसकर सोने की जरुरत नहीं है। ये आदत आपके ल‍िए थोड़ी मुश्किल भरी हो सकती है। या तो आप रेडियों पर कम आवाज में म्‍यूजिक सुनें। या फिर नींद आने के दौरान ईयरफोन हटाकर रख लें।
    इससे आपकी नैचरल स्लीपिंग पैटर्न पर फर्क नहीं पड़ेगा। कोशिश करें कि आपको रात में नेचुरल तरीके से नींद आएं। इसके ल‍िए आपको किसी म्‍यूजिक पर निर्भर न रहना पड़े। सोने से पहले दूध पीने या कुछ किताबे पढ़ने से भी अच्‍छी नींद आती है। ये आदत अपनी लाइफस्‍टाइल में शुमार करें।


  • कान का इंफेक्‍शन

    अगर आप अपना हेडफोन अपने दोस्‍तों के साथ शेयर करते आ रहे हैं तो एक बात जान लें कि आप कीटाणु भी शेयर कर रहे है जो आपके कानों में जाकर आपको संक्रमित कर सेता है।




कई लोगों को रात में बिना म्‍यूजिक सुने नींद नहीं आती है। इसलि‍ए रात को घंटों कानों में ईयरफोन ठूंसकर रखने की आदत शुमार होती है। रात को क्‍या रास्‍ते में चलते हुए बस हो या मेट्रो हर कोई कानों में म्‍यूजिक सुनते हुए मिल जाता है। लेकिन क्‍या आप जानते है कि हैंडफोन का इस्‍तेमाल करना आपके स्‍वास्‍थय के ल‍िए नुकसानदायक साबित हो सकता है।

कई स्टडीज में भी ये बात साबित हो चुकी है कि सोने से पहले गाने सुनते हुए कान में ईयरफोन लगाकर सोने से ये आपके कानों के ल‍िए तो खतरनाक है ही मगर ये मस्तिष्‍क और नींद को भी प्रभावित करता है। आइए जानते है कि कैसे रात को ईयरफोन कानों में डालकर सोना पड़ सकता है भारी -

   
 
स्वास्थ्य