Back
Home » स्‍वास्‍थ्‍य
ब्‍यूटीपार्लर भी कर सकता है आपको बीमार, STDs और हेपेटाइटिस होने का है रहता खतरा
Boldsky | 19th Jan, 2019 11:38 AM
  • हेयर कट से इंफेक्‍शन

    अगर आप हेयर कट के ल‍िए ब्‍यूटी पार्लर जा रहे हैं तो सबसे पहले कंघी पर जरुर ध्‍यान दें। कंघी साफ होनी जरुरी होती है, पार्लर में हेयर-स्टाइल बनवाने और फिर हेयरकट करवाने पर संक्रमण का डर रहता है। स्कल में छोटा-मोटा कट भी लगा हो तो गंभीर बीमारियां फैलने का डर रहता है। क्‍योंकि किसी और के ब्‍लड कॉन्‍टेक्‍ट में आई कैंची या कंघी आपको बीमार कर सकता हैं।


  • तौल‍िए का रखें खास ख्‍याल


    पार्लर में तौलिए का भी उपयोग कॉमन है। ध्‍यान दे कि आपकी ब्‍यूटीशियन किसी और का टॉवल आपके ल‍िए यूज नहीं कर लें। तौलिया जर्म्स का वाहक हो सकता है इसलिए पार्लर में तौलिए की जगह टिशू का इस्‍तेमाल करें। जहां टिशू इस्तेमाल करना मुमकिन न हो, वहां ध्यान दें कि आपके लिए नया और धुला हुआ तौलिया निकाला जाए।


  • वैक्सिंग से हो सकती है STDs

    वैक्सिंग की वजह से रैशेज और जलन की समस्‍या होना तो आम समस्‍या है लेकिन इसकी वजह से आपको STDs यानी यौन संचारित रोग भी हो सकते है। क्‍योंकि वैक्सिंग के ल‍िए यूज होने वाला स्‍पैटुला यानी धारदार चीज जिससे वैक्‍स लगाई जाती है। उसे बार-बार वैक्‍स के पॉट में डाला जाता है फिर उसे बाहर निकाला जाता है। कई लड़कियां बिकनी वैक्‍स करवाना प्रिफर करती हैं,अगर आपकी ब्‍यूटीशियन एक स्‍पैटुला को हर कस्‍टमर के ल‍िए इस्‍तेमाल कर रही है तो एक बार सोचिएं कि ये कहां-कहां और किस-किस जगह से घूमकर आ रहा होगा। अगर कोई क्‍लाइमेडिया और गोनेरिया जैसे यौन संचारित रोग के सम्‍पर्क में आया हो तो ये गर्म वैक्‍स आपको भी संक्रमित कर सकते हैं।


  • पेडीक्‍योर से हो सकता है हैपेटाइटिस

    दरअसल मैनिक्योर-पेडिक्योर, वैक्सिंग, बाल काटना वगैरह के दौरान अगर इस्तेमाल होने वाले उपकरणों को सही से साफ नहीं किया जाता है तो हैपेटाइटिस बी और सी जैसी बीमारी की वजह बन जाते हैं। मान लीजिए कि मैनीक्योर-पैडीक्योर के वक्त किसी उपकरण का इस्तेमाल करते वक्‍त अगर उसे साफ नहीं किया तो पिछले कस्टमर का ब्लड कॉन्टेक्ट उस पर रह सकता है। अगर अगले कस्टमर को उस उपकरण से कट लगता है तो दोनों का ब्लड कॉन्टैक्ट होगा और इंफेक्शन फैलने का खतरा रहेगा। इसल‍िए बेहतर है कि मेनीक्‍योर और पेडीक्‍योर आप घर पर ही करें खुद के उपकरण से।


  • टैटू बनते समय रखे ध्‍यान

    अगर आप शरीर में टैटू गुदवाने का सोच रही है तो खास सावधानी बरतें। टैटू पार्लर में जाने से पहले तसल्ली कर लें कि टैटू पार्लर अच्छी और साफ-सुथरी सर्विस देते हैं। टैटू बनाने वाले टूल अगर स्टरलाइज्‍ड नहीं किए गए तो इससे तो गंभीर इंफेक्शन जैसे एचआईवी-एड्स, हेपेटिटिस हो सकते है। इसल‍िए हर टैटू बनवाने के बाद टैटू टूल का स्‍टरलाइजेशन बहुत जरुरी होता है।


  • हाईजीन के साथ समझौता न करें

    पार्लर चुनते वक्‍त हाइजीन को कहीं भी नजरअंदाज न करें, उसी पार्लर में जाएं, जहां साफ-सफाई का अच्छा इंतजाम हो। तेज धार वाले उपकरणों का इस्तेमाल कराने से पहले ध्यान दें कि वे स्टरलाइज्‍ड किए हुए हैं या नहीं. फेशियल या कोई भी सर्विस लेते हुए ब्यूटिशियन या स्‍टाफ के हाइजीन पर भी ध्‍यान दें। देखिए कहीं पास बैठे कस्‍टमर के वैक्‍स करने के तुरंत बाद वो आपको फेशियल करना शुरु न करें। अगर आप किसी भी तरह के मौसमी संक्रमण का शिकार हों तो पार्लर जाना टालें.


  • सुविधाओं की तरफ भी दे ध्‍यान

    पार्लर चुनते समय वहां की सारी सुव‍िधाओं पर गौर जरुर दीज‍िएगां। सही ब्यूटी प्रोडक्ट से लेकर फर्नीचर तक सभी पर एक बारगी नजर जरुर दीजीए, ध्‍यान से देखिए कि पार्लर में जरुरत का हर सामान मौजूद है कि नहीं।


  • ग्‍लव्‍स पहनने की सलाह दे

    पार्लर में ब्यूटिशियन एक दिन में कई लोगों को सर्व करते हैं। जल्दबाजी में कई बार वे हर सर्विस के बाद हाथ धोना भूल सकते हैं। आप अपनी ब्‍यूटीशियन को ग्‍लव्‍स का इस्‍तेमाल करने की सलाह जरुर दे।




बेहतर और खूबसूरत दिखना हम सबके ल‍िए बहुत अहम होता है, इसल‍िए हम में से कई लोग ग्रूमिंग के ल‍िए ब्‍यूटी पार्लर जाते है। ब्‍यूटी ट्रीटमेंट से न सिर्फ रिलेक्‍स महसूस करते है बल्कि खुद को खूबसूरत महसूस कर के आप में एक तरह का स्‍वस्‍थ आत्‍मविश्‍वास भी बढ़ता है। लेकिन क्‍या आप जानते है अगर खुद के रिलेक्‍सेशन के ल‍िए आप ब्‍यूटी पार्लर चुनते वक्‍त थोड़ी सी भी गलती करते हैं तो आप बीमार पड़ सकते हैं? जी हां, ब्‍यूटीपार्लर या सलून जाकर भी आप इंफेक्‍शन या दूसरी कई गंभीर बीमारियों के चपेट में आ सकते हैं।

पार्लर में इस्तेमाल होने वाले उपकरण अगर ठीक से साफ न हो या फिर हाईजीन न होने के वजह से भी आप संक्रमण का शिकार बन सकते हैं। डर्मेटोलॉजिस्ट का भी यही मानना है. जानें, पार्लर जाने से पहले आपको किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ताकि किसी भी तरह के इंफेक्शन से बचा जा सके।

   
 
स्वास्थ्य