Back
Home » जरा हट के
पुलवामा में साथियों को खोने वाले CRPF हवलदार ने लकवाग्रस्‍त बच्चे को खिलाया खाना, वीडियो हुआ वायरल
Boldsky | 15th May, 2019 09:32 AM

दया, इंसानियत और बहादुरी ये तीनों ही भारतीय और भारतीय सुरक्षा बल के जवानों के खून में ही पाई जाती है। हालांकि कई लोग कहते है कि बदलते समय के साथ इंसानियत खो चुकी है लेकिन आज भी सीआरपीएफ हवलदार इकबाल सिंह की तरह कई लोग है जिन्‍होंने अशांति और अराजकता जैसे माहौल के बीच भी इंसानियत की भावना को बरकरार रखा है। जहां कश्‍मीर की घाटियों मेंतनाव और अशांति का माहौल पसरा हुआ है।

वहां इस सेना में तैनात हवलदार के एक छोटे से काम की बहुत तारीफ की जा रही है। जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में तैनात CRPF के हवलदार इकबाल सिंह का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वह अपना खाना एक लकवाग्रस्त बच्चे को खिला रहे हैं। वीडियो में हवलदार इकबाल सिंह अपने हाथों से बच्चे को खाना खिलाते हुए दिखाई दे रहे हैं। उनके इस स्नेहपूर्ण काम के लिए उन्हें महानिदेशक के प्रशंसा प्रमाणपत्र से सम्मानित किया गया है।

Most Read : पाकिस्‍तान में चायवालों के फेवरेट बने IAF पायलट अभिनंदन, मार्केटिंग के ल‍िए यूज कर र‍हे है फोटो

पुलवामा हमले का रह चुके है हिस्‍सा

14 फरवरी को पुलवामा हमले में 40 साथियों को खोने वाले सीआरपीएफ जवान हवलदार इकबाल सिंह ने यहां दिव्यांग बच्चे को अपना भोजन खिलाया। इसके लिए सीआरपीएफ महानिदेशक ने उन्हें प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। इकबाल 14 फरवरी को सीआरपीएफ काफिले पर हुए हमले का हिस्सा थे। वे हमले के दौरान सीआरपीएफ काफिले में ट्रक चला रहे थे। इकबाल सिंह सीआरपीएफ में ड्राइवर हैं। 13 मई को वह श्रीनगर के नवकदल चौक पर तैनात थे। दोपहर के लंच टाइम में उन्होंने एक बच्चे को भूखा देखा। इसके बाद उन्होंने अपना भोजन बच्चे को दे दिया। बच्चा दिव्यांग था, जिसके बाद इकबाल सिंह ने खुद बच्चे को खाना खिलाया।

पुलवामा हमले में बचाई थी साथियों की जान

पुलवामा हमले में उन्होंने अपने कई साथियों को खो दिया। हमले के बाद उन्होंने अपने कई घायल साथियों को अस्पताल पहुंचाकर उनकी जान बचाई थी। पुलवामा हमले के बाद से ही घाटी में तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है।

Most Read : 'आलू चाट' गाने पर इंडियन आर्मी के जवान ने किया डांस, मूव्‍स देखकर आप भी फैंस बन जाएंगे

इस घटना का किसी ने वीडियो शूट कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया। जिसके बाद वीडियो वायरल होने लगा। वीडियो सामने आने के बाद सीआरपीएफ महानिदेशक ने उनकी तारीफ की और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया।

   
 
स्वास्थ्य