Back
Home » स्‍वास्‍थ्‍य
सुबह की बासी लार न‍िगलने से खत्‍म होती है कई बीमार‍ियां, आंखों के घेरे भी होते है दूर
Boldsky | 10th Jul, 2019 12:53 PM
  • कैसे न‍िगले सुबह की पहली लार

    सुबह उठते ही सबसे पहले उम्र के हिसाब से अगर छोटे बच्चे हैं तो एक क्लास बड़े हैं तो दो से तीन ग्लास पानी पी लें। याद रखें सुबह का पानी कुल्ला करने से भी पहले पीना चाहिए और साथ हीं पानी को धीरे-धीरे और बैठकर हीं पीना चाहिए।


  • आंखों का भी रखे ध्‍यान

    क्‍या आप डार्क सर्किल से परेशान है तो सुबह मुंह की लार से धीरे-धीरे अपने आंखों के आसपास मलें। कुछ ही दिनों में काले घेरे दूर हो जाएंगे। साथ सुबह की लार काजल की तरह आंखों में लगाने से, आंखों की रोशनी बढ़ती है। इसके अलावा ये कंजक्टिवाइटिस यानी आंख आने की समस्‍या को दूर करने में भी मदद करती है। इसमें आंखें लाल होने के साथ इसमें दर्द होता है और जलन के साथ खुजलाहट भी रहती है। आंखों से पानी आता रहता है। और आंखों में कीचड़ भी जमा होता रहता है। लेकिन अगर आप सुबह की लार अपनी आंखों में लगाएंगे तो 24 घंटे के भीतर आपकी आंखे ठीक हो जाती हैं।


  • त्‍वचा के लिए गुणकारी

    आपको जानकर हैरानी होगी क‍ि चेहरे पर किसी भी प्रकार का दाद हो या मुंहासों की समस्‍या होने पर बासी थूक को चेहरे पर लगाने से ये खत्‍म हो जाता है। शरीर में होने वाले फोड़े-फुंसियों या घाव के भरने के बाद जो दाग रह जाते है उनको दूर करने में भी सुबह की लार बहुत काम आती है। शरीर में कहीं कटने, छिलने या घाव होने पर सुबह की लार लगाने से बहुत फायदा होता है। यहां तक की लार डायबिटीज के रोगियों के घाव पर भी रामबाण की तरह काम करती है।


  • पाचन को रखे दुरुस्त

    हमारे पाचन-तंत्र को दुरुस्त करने के लिए लार से बढ़िया और कोई दवा नहीं है। आपको बता दें कि लार में टायलिन नामक एंजाइम पाया जाता है, इसलिए सुबह उठते ही एक गिलास पानी पीने से आपकी लार सीधे आपके पेट में चली जाती है। ऐसा रोजाना करने से कभी पाचन संबंधी परेशानियां नहीं होती है।


  • दांतों का भी रखें ध्‍यान

    लार में सोडियम, पोटैशियम, फास्फेट, कैल्शियम, प्रोटीन, ग्लूकोज जैसे तत्व होते हैं जो दांतों को मजबूत बनाते हैं। इसमें मौजूद एंटीबॉयोटिक दांतों को हानिकारक संक्रमणों से बचाते हैं जिससे दांत सड़ते नहीं। यह दांतों पर सुरक्षा कवच की तरह काम करती है।


  • सांसों की बदबू करें दूर

    कई बार मुंह में लार कम बनने से भी सांसों से बदबू की समस्या हो सकती है। मुंह में रह गए भोजन के कण और बैक्टीरिया कई बार इन्फेक्शन पैदा कर देते हैं जिससे भी सांसों से बदबू आती है। लार से इन कणों और बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करती है।




मुंह के लार सेहत के ल‍िए बहुत फायदेमंद होती है, खासकर सुबह की बासी लार। किसी के ओरल हेल्थ और पूरी सेहत का हाल पता करने के लिए लार की जांच भी शामिल होती है। ये डाइजेशन को बेहतर बनाने के साथ मुंह के बैक्‍टीर‍िया का भी खात्‍मा करता है। मुंह की लार एक लुब्रिकेंट की तरह काम करता है, स्वाद लेने में मददगार होता है और एंटी-बैक्टीरियल होता है, जो मुंह के संक्रमण से हमें बचाता है। आयुर्वेद में भी तीन हजार साल पहले ऋषि बाग्वट ने लार के औषधीय गुणों के बारे में काफी कुछ बताया है, जो आपकी कई बीमारियों को खत्म कर सकता है।

लार में ऐसे 18 तत्‍व पाए जाते है जो मिट्टी में पाए जाते है। धूम्रपान और नशीले पदार्थों की वजह से लार को खत्म करता जा रहा है। लार दूषित होने से, बाहर थूकने और मुंह सूखने जैसी तीन स्थितियों के कारण खत्म होती है। आइए जानते है सुबह की लार कैसे आपके ल‍िए फायदेमंद हो सकती है।

   
 
स्वास्थ्य