Back
Home » ताजा
PUBG ना खेल पाने के गम में 17 वर्षीय लड़के ने की आत्महत्या
Gizbot | 9th Jul, 2019 02:14 PM

पबजी मोबाइल गेम की वजह से एक और लड़के ने आत्महत्या करके अपनी जान दे दी। इस बार यह दुखद घटना हरियाणा के जींद इलाके की है। हरियाणा के जींद में स्थित शिवपुरी कॉलोनी में शनिवार को ये घटना हुई है। हरियाणा पुलिस में एएसआई सत्यवान का 17 वर्षीय बेटा तरसेम ने पबजी ना खेल पाने के गम में आत्महत्या कर ली।

पुलिस के मुताबिक तरसेम दसवीं कक्षा पास करने के बाद से घर में बैठकर सिर्फ पबजी गेम खेलता रहता था। यहां तक की वो रात-रात भर अपने कमरे में अकेले गेम खेलते रहता था। इस वजह से घर में माता-पिता ने हमेशा स्मार्टफोन पर पबजी गेम खेलते रहने पर नाराजगी जताई। परिजनों ने तरसेम की बढ़ती इस बुरी आदत से घबराकर उसे डांटना शुरू किया। घर वालों ने पबजी ना खेलने का दबाव देना शुरू किया।

पबजी ने फिर एक युवकी की ली जान

इसके बाद शनिवार रात करीब नौ बजे तरसेम खाना खाने के बाद अपने कमरे में चला गया। घर वालों ने सोचा कि वो अब सो गया लेकिन जब उसकी मां उसके कमरे में गई तो देखा कि वो फंदे में लटका हुआ पाया। इसके बाद उसे हॉस्पिटल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने बॉडी का पोस्टमॉर्टम करके बॉडी परिजनों को सौंप दी।

यह भी पढ़ें:- स्मार्टफोन के ज्यादा इस्तेमाल से सिर पर निकले सिंग, जानिए इस ख़बर की पूरी सच्चाई

क्षेत्रीय थाना प्रभारी के मुताबिक मौत की वजह लड़की की आत्महत्या करना ही है। उन्होंने कहा कि लड़के को मोबाइल में पबजी खेलने का नशा इतना ज्यादा हो गया था कि घर वालों के मना करने पर उसने अपनी जान देना ठीक समझा। आपको बता दें कि यह कोई पहली घटना नहीं है जब पबजी ना खेल पाने की वजह से किसी ने आत्महत्या कर ली हो। इससे पहले भी ऐसे कई मामले देशभर से सामने आ रहे हैं।

ड्रग्स जैसा पबजी का लत

पबजी खेम बच्चों और युवाओं में एक ड्रग्स की लत जैसा रूप लेता जा रहा है। जिस तरह ड्रग्स लेने वालों को ड्रग्स ना मिलने पर वो अपनी जान तक गवां देते हैं ठीक उसी तरह पबजी गेम का नशा जरूरत से ज्यादा बढ़ जाने पर युवा, टीनऐजर्स और बच्चे अपने-आप को मार देना ठीक समझते हैं। यह वाकई में सोचने और विचार करने वाली बात है। अगर आपके घर में भी कोई बच्चा, युवक इस तरह के किसी भी लत का आदी बनता जा रहा है तो उसे ठीक तरीके से समझाएं और उस आदत से बाहर निकालने की कोशिश करें।

   
 
स्वास्थ्य