Back
Home » Entertainment
Flashback: करण जौहर को मिली थी जान से मारने की धमकी, शाहरूख ने कहा ये पठान इधर खड़ा है
Oneindia | 12th Jul, 2019 12:01 AM
  • अजब था बॉलीवुड

    ये साल बॉलीवुड के लिए काफी हटके था क्योंकि इस साल इतने अलग कलेवर की फिल्में देखने को मिली थीं कि पूछिए ही मत! फिल्म को बेस्ट फिल्म सहित 8 फिल्मफेयर अवार्ड मिले थे और 17 कैटेगरी में नॉमिनेट किया गया था।


  • सलमान खान

    सलमान खान को मैंने प्यार किया के बाद इस फिल्म के लिए अपना दूसरा फिल्मफेयर अवार्ड मिला था।


  • ज़ख्म

    अजय देवगन की ज़ख्म जैसी बेहतरीन फिल्म बाकी फिल्मों से हार गई थी!


  • सोल्जर

    ये वो साल था क्यूट सी प्रीती ज़िंटा ने दिल से डेब्यू के बाद सोल्जर से सबका दिल जीत लिया था।


  • बड़े मियां छोटे मियां

    ये वो साल भी था जब अमिताभ बच्चन करियर के ढलान पर थे और गोविंदा का सहारा ले रहे थे।


  • गुलाम

    ये वो साल था जब आमिर ने आती क्या खंडाला से बवाल मचा दिया था लेकिन गुलाम को अवार्ड नहीं मिले थे।


  • माचिस स्टंट

    ये वो साल भी था जब आमिर के माचिस स्टंट के बाद ट्रेन स्टंट को सीन ऑफ द ईयर माना गया था।


  • दुश्मन

    1998 काजोल का साल था और उन्होंने दुश्मन से साबित कर दिया था। हालांकि बेस्ट एक्ट्रेस उन्हें कुछ कुछ होता है के लिए ही मिला था।


  • आशुतोष राणा

    ये वो साल भी था जब आशुतोष राणा ने विलेन की परिभाषा ही बदल दी थी और उनसे डर लगने लगा था।


  • प्यार तो होना ही था

    ये साल वाकई काजोल का था क्योंकि उन्होंने बेहतरीन फिल्मों की लाइन लगा दी थी।


  • प्यार किया तो डरना क्या

    हम कह रहे हैं ना आपसे - ये साल वाकई काजोल का ही था।


  • सत्या

    ये साल भीखू म्हात्रे का भी था जिसने इतने फैन्स बना लिए थे एक ही फिल्म से। मनोज वाजपेयी को सलाम!


  • दूल्हे राजा

    ये वो साल भी था जब कादर खान और जॉनी लीवर फिल्म का बहुत अहम हिस्सा होते थे।


  • Awww

    और ये वो साल था जब सना सईद इतनी प्यारी सी एक बच्ची लगती थीं!




करण जौहर ने 20 साल पहले बॉलीवुड को एक नए सिनेमा का मतलब दिखाया था। उनकी पहली फिल्म कुछ कुछ होता है 20 साल पहले अक्टूबर मे रिलीज़ हुई थी और करण जौहर के बॉलीवुड में 20 साल पूरे होने का जश्न मेलबर्न में मनने जा रहा है जहां कुछ कुछ होता है की स्पेशल स्क्रीनिंग रखी गई है। लेकिन इस फिल्म की स्क्रीनिंग से जुड़ा एक बेहद दिलचस्प किस्सा है जो करण जौहर ने अपनी किताब में लिखा है।

इस फिल्म की स्क्रीनिंग के दौरान करण जौहर को अंडरवर्ल्ड से धमकियां मिल रही थीं और उन पर फिल्म की रिलीज़ डेट बदलने का दबाव डाला जा रहा था। दरअसल, ये फिल्म बड़े मियां छोटे मियां से क्लैश कर रही थी। और करण को जान से मार डालने तक की घमकियां दी गई थीं। लेकिन करण के परिवार और दोस्त उनके साथ खड़े थे और फिल्म की रिलीज़ डेट नहीं बदली गई।

हालांकि करण को पूरी सिक्योरिटी मिली और फिल्म की स्क्रीनिंग के दौरान भी उन्हें एक चैंबर में बैठाया गया था ना कि थियेटर में बाकी लोगों के साथ। एक समय ऐसा आया जब उनकी मां हीरू जौहर ने शाहरूख को बताया कि करण का सपना था कि वो इतने बड़े बड़े लोगों को रेड कार्पेट पर चलकर अपनी फिल्म देखने के लिए आता देखे। इसके बाद शाहरूख खान से बर्दाश्त नहीं हुआ।

वो करण जौहर को बाहर लेकर आए और साफ कहा कि मैं खड़ा हूं यहां देखता हूं कौन तुम्हें गोली मार देता है। उसके सामने पहले मैं आऊंगा। शाहरूख ने करण की मां को समझाया कि ये पठान इधर खड़ा है, ना मुझे कुछ होगा और ना आपके बेटे को। ये मेरे भाई जैसा है। करण के लिए ये काफी इमोशनल पल था। हालांकि फिल्म की रिलीज़ के बाद करण विदेश चले गए क्योंकि धमकियों का सिलसिला जारी था। जब फिल्म रिलीज़ हुई तो उन्हें विदेश में लोगों ने फोन करके बताया कि फिल्म हिट हो चुकी है।

जानिए उस दौर में क्या कर रहा था बाकी का बॉलीवुड -

   
 
स्वास्थ्य