Back
Home » Entertainment
Shammi Kapoor Death Anniversary: 60 के दशक में शम्मी कपूर ने बनाई थी कपूर खानदान के लिए वेबसाइट, कुछ ऐसी थी उनकी शादीशुदा लाइफ
Khabar India TV | 14th Aug, 2019 09:37 AM

Shammi Kapoor Death Anniversary:  60 के दशक के शम्मी कपूर (Shammi Kapoor) के कुथ अलग ही जलवे थे। वह अपनी फिल्मों से लोगों को हंसाते तो थे ही लेकिन वह अपनी बेहतरीन अदाकारी से लोगों को इमोशनल भी कर दे थे। उनकी नीली आखें और स्टाइल पर करोड़ों लड़कियां फिदा थी।  21 अक्टूबर 1931 में मुंबई में जन्मे शम्मी कपूर ने 14 अगस्त 2011 को इस दुनिया को अलविदा कह गए।

एक्टर पृथ्वी राज कपूर के घर जन्में शम्मी एक राजा की तरह जिंदगी जीते थे। इस दौर में पृथ्वी राज कपूर सबसे बहेतरीन फिल्ममेकर में एक माने जाते थें। वहीं शम्मी कपूर पहले बेटे थे जिसके पालन -पोषण में प्रथ्वी राज कपूर ने कोई कमी नहीं आने दी थी। इतना ही नहीं शम्मी कपूर भी अपनी मां की पहली संतान थे जिनका जन्म एक अस्पताल में हुआ था। 

शम्मी का पूरा नाम शमशेर राज कपूर था, लेकिन फिल्मों के जरिए हम उन्हें शम्मी के रूप में ही जानते हैं। वह पर्दे पर आते ही गजब की एनर्जी ला देते थे। आज भी जब शम्मी कपूर के गाने बजते है तो दिल मस्तमौला हो जाता है।

Shammi kapoor

Shammi kapoor

शम्मी कपूर ने की 2 शादियां
पर्दे पर हमेशा खुशमिजाज और बेफिक्र दिखने वाले इस शख्स की जिंदगी में एक समय ऐसा तूफान आया था, जिसने उसे बुरी तरह तोड़ दिया था। शम्मी अपनी पत्नी गीता बाली से बेहद प्यार करते थे। इन दोनों का प्रेम 1955 में आई 'रंगीन रातें' नाम की फिल्म के दौरान परवान चढ़ा था। इस फिल्म में शम्मी लीड रोल में थे, जबकि गीता का कैमियो था। फिल्म की रिलीज के कुछ ही महीने बाद दोनों ने मुंबई के एक मंदिर में शादी कर ली। 1 जुलाई 1956 को दोनों के बेटे आदित्य राज कपूर का जन्म हुआ। बेटे के जन्म के लगभग 5 साल बाद दोनों के एक बेटी भी हुई जिसका नाम कंचन रखा गया। बेटी के जन्म के लगभग 4 साल बाद गीता का देहांत हो गया।

वहीं पत्नी के निधन से इतने ज्यादा दुखी हो गए थे कि उन्होंने खाना-पीना तक छोड़ दिया था। उधर उनके बच्चे छोटे थे और परिवार दूसरी शादी के लिए दबाव बना रहा था। परिवार वाले चाहते थे कि शम्मी नीला देवी से शादी कर लें।

काफी मान-मनौव्वल के बाद शम्मी शादी के लिए तैयार हो गए, लेकिन कहते हैं कि उन्होंने इसके लिए एक अजीब-सी शर्त रख दी थी। रिपोर्ट्स के मुताबिक, शम्मी ने नीला से कहा था कि वह इसी शर्त पर शादी करेंगे जब वह उनसे वादा करेंगी कि वह कभी मां नहीं बनेंगी और गीता से जन्मे बच्चों को ही उनकी मां बनकर पालेंगी। नीला ने शम्मी की यह शर्त मान ली, और फिर दोनों ने शादी कर ली।

उस जमाने के पहले इंटरनेट यूजर
शम्मी कपूर जहां एक्टिंग विरासत में मिली थी। जो अपनी बेहतरीन अदाकारी से लोगों के दिलों में राज़ करते थे। वहीं दूसरी ओर 60 के दशक में  इंटरनेट चलाते थे। वह भारत के इंटरनेट यूजर कम्यूनिटी के संस्थापन और चैयरमैन थे। इतना ही नहीं उन्होंने कपूर खानादान की एक वेबसाइट भी बनाई थी। जिसमें वह सभी के बारे में जानकारी देते थे और अपने फैंस से बातें करते थे।

   
 
स्वास्थ्य