Back
Home » समाचार
जम्मू-कश्मीर पर मध्यस्थता को लेकर UN से पाकिस्तान को झटका कहा- हमारा स्टैंड नहीं बदला
Oneindia | 11th Sep, 2019 07:56 PM
  • दोनों देश बातचीत से हल निकालें- यूएन

    जम्मू-कश्मीर पर मध्यस्थता की पाकिस्तान की ओर से की जा रही अपील पर संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने कहा है कि सेक्रटरी जनरल दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ने को लेकर बहुत चिंतित हैं। उन्होंने दोनों देशों से अपील की है कि वे मसले को बातचीत के जरिए हल निकालें। इस मसले पर गुतारेस ने सोमवार को यूएन में पाकिस्तान की स्थायी प्रतिनिधि मलीहा लोढ़ी निवेदन पर उनसे मुलाकात भी की थी। दरअसल, दुजारिक इस सवाल का जवाब दे रहे थे कि क्या इस महीने होने वाली यूएन जनरल असेंबली की बैठक के दौरान गुतारेस की भारत और पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता की कोई योजना है। गौरतलब है कि यूएन जनरल असेंबली के सत्र को प्रधानमंत्री मोदी और पाकिस्तानी पीएम इमरान खान भी संबोधित करने वाले हैं।


  • झूठ की रनिंग कमेंट्री कर रहा है पाकिस्तान

    उधर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में भी भारत ने साफ तौर पर कहा है कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाना पूरी तरह आंतरिक फैसला है, जिसपर संसद ने मुहर लगाई है। कोई भी देश अपने आंतरिक मामले में दखलअंदाजी नहीं चाहेगा, भारत भी नहीं। यही नहीं भारत की ओर से गया कि हमारा संविधान बिना किसी भेदभाव के सभी नागरिकों के मूल अधिकारों की गारंटी देता है। हमारी स्वतंत्र न्यायपालिका, फ्री मीडिया, वाइब्रेंट सिविल सोसाइटी मानवाधिकारों के संरक्षण के लिए एक बेहतर माहौल तैयार करती है। दुनिया और खासकर भारत राज्य प्रायोजित आतंकवाद का काफी शिकार हुए हैं। इस मुद्दे पर चुप्पी से आतंकियों और उनके समर्थकों का हौसला बढ़ता है। यही नहीं पाकिस्तान की ओर इशारा करते हुए ये भी कहा गया कि एक ग्रुप यहां झूठे आरोपों की रनिंग कमेंट्री कर रहा है और जो ग्लोबल टेररिज्म का केंद्र है वही भारत पर मानवाधिकारों के उल्लंघन के झूठे आरोप लगा रहा है।




नई दिल्ली- जम्मू-कश्मीर के मसले पर पाकिस्तान को एक बार से संयुक्त राष्ट्र में तगड़ा झटका लगा है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने कश्मीर मसले पर मध्यस्थता की उसकी अपील को सिरे से खारिज करते हुए दो टूक कह दिया है कि इस मसले में वह अपने पुराने स्टैंड पर कायम है और दोनों देशों को आपसी बातचीत के जरिए ही यह मसला सुलझाना होगा। इस दौरान संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस के प्रवक्ता ने जी-7 के दौरान गुतारेस की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हुई बातचीत का भी हवाला दिया। दरअसल, भारत अंतरराष्ट्रीय जगत को पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि जम्मू-कश्मीर उसके आंतरिक मसला है और इसपर किसी तीसरे पक्ष की दखल का कोई सवाल ही नहीं पैदा होता।

इसे भी पढ़ें- जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट-मोबाइल सेवाओं को तुरंत बहाल करने की मांग, सुप्रीम कोर्ट में याचिका

   
 
स्वास्थ्य