Back
Home » स्‍वास्‍थ्‍य
नवजात शिशु के शरीर से क्‍यों आती है खुशबू, जाने क्‍या कहते हैं एक्‍सपर्ट
Boldsky | 17th Sep, 2019 11:55 AM

आपके घर में या किसी र‍िश्‍तेदार के घर में किसी शिशु का जन्‍म हुआ हो और आपने गौर किया हो तो नवजात शिशुओं के शरीर से एक लुभाने वाली गंध आती हैं। कभी आपने सोचा है क‍ि आखिर दुधमुंहे बच्‍चों से ऐसी खुशबू क्‍यों आती हैं। क्यों नहलाने और सफाई करने के बाद भी कई हफ्तों तक बेबीज के अंदर से ये अलग तरह की खुशबू क्‍यों आती रहती है? इस विषय पर हाल ही में एक अध्ययन किया गया। यह स्टडी पिछले दिनों फ्रंटियर्स साइकॉलजी जर्नल में प्रकाशित की गई।

इस स्टडी के दौरान शोधकर्ताओं ने 30 महिलाओं पर रिसर्च की। इनमें 15 महिलाएं वे थीं, जिन्होंने हाल ही बच्चे को जन्म दिया था और बाकी 15 महिलाएं वे थीं, जिन्होंने अभी तक किसी बच्चे को जन्म नहीं दिया है।

इन सभी महिलाओं को 2 दिन पहले जन्मे नवजात बच्चों को पहनाए गए कपड़े सूंघने के लिए दिए गए। इस दौरान दोनों महिलाओं के मस्तिष्क के उस हिस्से में ज्‍यादा हलचल देखने, जो कोई उपहार मिलने या टेस्टी फूड खाने के दौरान देखने को मिल। इस बात को यूं समझे नवजात शिशु से आने वाली गंध से उत्तेजना और सुकून का अहसास होता है।

जान‍िए क्‍यों बच्‍चों से आती है खुशबू

आइए जानते है क‍ि बच्‍चों से ऐसी खुशबू क्‍यों आती हैं? हालांकि वैज्ञानिकों ने इसके बारे में कोई साफ-साफ कारण नहीं बताएं हैं। इस व‍िषय में रिसर्च जारी है। लेकिन इससे जुड़े कारण जरुर बताएं हैं जिनमें पहला कारण है, बच्चों के शरीर से उनके पसीने के साथ निकलने वाले रसायन। हालांक‍ि, उनकी गंध छह सप्ताह से अधिक समय तक नहीं रहती है क्योंकि तब तक वे बाहरी चीजें खाना और पीना शुरू करते हैं, जिससे उनका मेटाबॉलिज़म बदलना शुरू हो जाता है। जबकि इससे पहले तक उन्हें मां के गर्भ में गर्भनाल के जरिए पोषण मिल रहा होता था।

वहीं इससे जुड़ा दूसरा तर्क ये है क‍ि यह खुशबू हमारे दिमाग को सीधे तौर पर इसलिए इफेक्ट करती है क्योंकि हमारा ब्रेन अच्छी और बुरी यादों को गंध के माध्यम से परखता है। हम जिन चीजों से प्यार करते हैं, उनकी खुशबू हमें आकर्षित करती है और ब्रेन का एक हिस्सा एक्टिव होकर हमें उन चीजों से जोड़ता है। साथ ही जो चीजें हमें नुकसान पहुंचाती है उनकी गंध से हमारा ब्रेन एक्टिव होकर नकारात्मक प्रक्रिया देता है।

यही वजह है कि ना केवल मां को बच्चे की खुशबू और उसके कपड़ों की खुशबू आकर्षित करती है बल्कि कुछ ना बोल पानेवाले बच्चे भी अपनी माताओं द्वारा पहने जाने वाले कपड़े बहुत पसंद होते हैं और वे अपनी मां के दूध की खुशबू से आराम महसूस करते हैं। बच्चे के बड़े होने के बाद उसके शरीर से गंध आनी बंद हो जाती है लेकिन मां के ब्रेन को वह गंध हमेशा याद रहती है। कई माता-पिता तो कमरे में एंट्री करते समय ही अपने नवजात की खुशबू से उसे पहचान लेते हैं।

   
 
स्वास्थ्य