Back
Home » स्‍वास्‍थ्‍य
कहीं आप असली सरसों के तेल के नाम पर नकली तो नहीं खा रहे हैं, जानें कैसे मालूम करें
Boldsky | 19th Sep, 2019 05:49 PM

सरसों का तेल भारतीय रसोई का अभिन्‍न हिस्‍सा है. हर घर में सब्‍जी बनाने के लिए सरसों के तेल का प्रयोग किया जाता है। सब्‍जी बनाने से लेकर स्किन केयर में भी सरसों का तेल बहुत कम आता हैं। पिछले कुछ समय से सरसों के तेल में मिलावट की खबरें सामने आने लगी हैं।

सरसों के तेल में मिलावट के ल‍िए विदेशों से 'वेस्‍टेड पेट्रोल‍ियम ऑयल' आयात किया जाता है। इसे र‍िफाइन कर खुशबू, रंग आद‍ि मिलाकर नकली सरसों का तेल बनाया हाता हैं।

ऐसे में बाजार में मिलने वाला तेल असली है या नहीं, इस बात को लेकर लोग संशय में रहते हैं। इसलिए हम आज आपको बता रहे हैं कुछ ऐसे तेरीके जिनसे आप ये जांच सकते हैं कि सरसों का तेल असली है या नकली।

ऐसे करें पहचान
  • सरसों के तेल की थोड़ी मात्रा लेकर उसे टेस्‍ट ट्यूब में डालें। अब इसमें नाइट्रिक एसिड की कुछ बूंदें डालें। इसे हिलाएं और मिक्‍सचर को दो से तीन मिनट के लिए गर्म करें। अगर रंग लाल हो जाता है तो समझ लीजीए कि तेल में मिलावट है।
  • सरसों के तेल को फ्रिज में रखें। अगर तेल में मिलावट होगी तो ये जमने लगेगा। अगर तेल शुद्ध होगा तो ये लिक्विड फॉर्म में ही रहेगा।
  • तेल को हाथ पर रखें। इसे रगड़कर देखें। अगर तेल आपके हाथ पर रंग छोड़ दे तो समझ लीजिए कि उसमें मिलावट है। अगर रंग ना छूटे केवल चिकनाई रहे तो समझ लें कि तेल शुद्ध है।
  • सरसों के तेल का रंग काफी गाढ़ा होता है। अगर इसका रंग हल्‍का पीला हो तो समझ जाएं कि इसमें मिलावट है।
  • सरसों की खुश्‍बू से पहचानें, क्‍योंकि सरसों की खुश्‍बू बहुत तेज होती है जो नाक में हल्‍की जलन सी महसूस करवा देती हैं। अगर सरसों का तेल बहुत हल्‍का हो तो समझ जाइए कि इसमें मिलावट हैं।
  • एक मिली सरसों के ल‍िए में 10 मिलीलीटर एसिडिफाइड पेट्रोल‍ियम ईथर मिलाएं। दो मिनट हिलाने के बाद एक ड्रॉप मॉल‍िब्‍डेट मिलाएं। तुरंत ही यदि गंदलापन दिखे तो उसमें अरंडी का तेल मिला हुआ हैं।
   
 
स्वास्थ्य