Back
Home » समाचार
गुजरात: समय पर नहीं पहुंची एंबुलेंस, सीएम रुपाणी के चचेरे भाई की मौत
Oneindia | 10th Oct, 2019 12:58 AM

अहमदाबाद। गुजरात की 108 एंबुलेंस सेवा की खस्ताहाल के शिकार इस बार राज्य के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी के एक रिश्तेदार हो गए। विजय रुपाणी के मौसेरे भाई के परिवार ने 108 के जरिए एम्बुलेंस बुलाई थी लेकिन एम्बुलेंस 45 मिनट देर से पहुंची जिसके कारण विजय रुपाणी के मौसेरे भाई अनिल संघवी का निधन हो गया। एम्बुलेंस के पहुंचने में हुई देरी के कारण रुपाणी के मौसेरे भाई अनिल संघवी को समय पर अस्पताल नहीं पहुंचाया जा सका जिसके बाद उनकी मौत हो गई। मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) ने बुधवार को एक मामले में जांच का आदेश दिया है।

मामला तब सामने आया जब रूपानी मंगलवार को अपने मामा के बेटे अनिलभाई संघवी को श्रद्धांजलि देने गए। बता दें कि इसी महीने 4 अक्टूबर को सौराष्ट्र कला केंद्र इश्वरिया के पास रहने वाले मुख्यमंत्री के मौसेरे भाई अनिल संघवी को सांस की तकलीफ होने लगी। उनके बेटे गौरांग और परिवार के सदस्यों ने 108 एम्बुलेंस सेवा को फोन कर मदद मांगी थी। बार-बार कॉल करने पर भी एम्बुलेंस 45 मिनट की देरी से पहुंची। अस्पताल पहुंचने तक अनिल संघवी की मौत हो गई।

सूचना मिलने पर मुख्यमंत्री विजय रूपाणी राजकोट पहुंचे और परिजनों को सांत्वना दी। रूपाणी को बताया गया कि ऑपरेटर की गलती की वजह से एम्बुलेंस देरी से घटनास्थल पहुंची। इस हादसे के बाद गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने कलेक्टर को एम्बुलेंस के देरी से पहुंचने को लेकर जांच के आदेश दे दिए हैं। राजकोट कलेक्टर राम्या मोहन अब मामले की जांच कर रहे हैं।

मोहन ने कहा कि प्रारंभिक सूचना के आधार पर एम्बुलेंस गंतव्य पर देर से पहुंची क्योंकि सिस्टम में गलत लैंडमार्क फीड था। जब 108 पर कॉल किया गया था, लेकिन जो लैंडमार्क दिखाया गया वह मोदी स्कूल था। मोहन का कहना है कि 2 बार एम्बुलेंस को परिवार वालों ने फोन करने का प्रयास किया लेकिन उनकी फोन पर बात नहीं हो पाई थी। उन्होंने बताया कि एम्बुलेंस गलत एड्रेस पर भी पहुंच गई थी। एम्बुलेंस मोदी स्कूल इश्वरिया रोड की जगह पर न्यू मोदी स्कूल इश्वरिया गांव पहुंच गई थी। जिससे उसे पहुंचने में देरी हो गई।

राजकोट कलेक्टर ने यह भी स्पष्ट किया कि कॉल प्राप्त होने के 6 मिनट के भीतर एंबुलेंस को भेज दिया गया। लेकिन पता गलत होने कारण उनके परिवार को एंबुलेंस से 13 बार लैंडलाइन के नंबर पर कॉल किया गया। लेकिन फोन नहीं लगा। जिसके चलते यह देरी हुई।

PM मोदी को खत लिखने वाली 49 हस्तियों के खिलाफ राजद्रोह का केस खत्म, याचिकाकर्ता पर FIR

   
 
स्वास्थ्य