Back
Home » Entertainment
Birthday Special: ओमपुरी की ये 10 बेहतरीन फिल्में मूवी लवर्स को जरूर देखनी चाहिए
Khabar India TV | 18th Oct, 2019 10:08 AM

Birthday Special: 17 अक्टूबर को दिवंगत अभिनेता ओम पुरी की 68 वीं जयंती है। अभिनेता ने जिस तरह से दुनिया को हिंदी सिनेमा को मकबूल, द हंड्रेड फुट जर्नी जैसी फिल्में दी हैं, वो लंबे समय तक याद किए जाएंगे। आज उनकी जयंती पर हम आपको उनकी 10 यादगार फिल्मों और उसमें उनके प्रदर्शन के बारे में बताने जा रहे हैं। अगर आप मूवी लवर हैं तो आपने ये फिल्में जरूर देखी होंगी, अगर नहीं देखी तो जरूर देख डालिए।

अल्बर्ट पिंटो को गुसा क्यूं आता है (1980)

इस मशहूर फिल्म में, ओम पुरी ने एक मैकेनिक की भूमिका निभाई। फिल्म का निर्देशन सईद अख्तर मिर्जा ने किया था और नसीरुद्दीन शाह और स्मिता पाटिल ने मुख्य भूमिकाओं में काम किया था।

भवानी भवई (1980)

यहाँ, पुरी ने एक गरीब सफाईकर्मी की भूमिका निभाई थी, जिसने सामंती समाज में जीवित रहने के लिए संघर्ष किया। केतन मेहता के निर्देशन में बनी इस फिल्म में स्मिता पाटिल और नसीरुद्दीन शाह ने मुख्य भूमिकाएँ निभाईं। केतन मेहता ने इस फिल्म के लिए सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म का नरगिस दत्त पुरस्कार जीता।

आरोहण (1982)

ओम पुरी ने एक गरीब किसान की भूमिका निभाई, जो व्यवस्था के खिलाफ अपने अधिकारों के लिए लड़ता है। इस भूमिका के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला। श्याम बेनेगल के निर्देशन में बनी इस फिल्म में विक्टर बनर्जी ने भी मुख्य भूमिका निभाई थी।

अक्षय कुमार के साथ ट्रेन में चंबल के डकैतों ने की थी लूटपाट, 'हाउसफुल 4' स्पेशल ट्रेन में सुनाई आपबीती

अर्ध सत्य (1983)

गोविंद निहलानी द्वारा निर्देशित इस फिल्म में ओम पुरी ने अपनी सबसे अधिक पावर पैक भूमिकाओं में से एक में एक पुलिस अधिकारी की भूमिका निभाई। फिल्म को पुरी को अपना दूसरा राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला।

जाने भी दो यारो (1983)

ओम पुरी ने इस पंथ फिल्म में एक भ्रष्ट बिल्डर का किरदार निभाया, जिसे बॉलीवुड की अब तक की सबसे अच्छी सटायर फिल्म के रूप में जाना जाता है। कुंदन शाह द्वारा निर्देशित, इस फिल्म में नसीरुद्दीन शाह, पंकज कपूर और नीना गुप्ता ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

मिर्च मसाला (1985)

इसमें ओम पुरी ने एक बूढ़े गार्ड की भूमिका निभाई, जो एक कारखाने में काम करने वाली महिलाओं की सुरक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देता है। केतन मेहता के निर्देशन में बनी इस फिल्म में स्मिता पाटिल और दीप्ति नवल मुख्य भूमिकाओं में थीं।

नरसिम्हा (1991)

ओम पुरी ने बापजी का किरदार निभाया, जो बॉलीवुड के सबसे खूंखार खलनायक हैं। एन चंद्रा के निर्देशन में बनी इस फिल्म में सनी देओल मुख्य भूमिका में थे।

ईस्ट इज ईस्ट (1999)

इस फिल्म में ओम पुरी ने इंग्लैंड में एक पाकिस्तानी पिता की भूमिका निभाई थी जो अपने उन बच्चों को समझाने की कोशिश करता है जो पाकिस्तानी संस्कृति को अस्वीकार कर रहा है। यह डेमियन ओ'डॉनेल द्वारा निर्देशित किया गया था।

सोनाक्षी सिन्हा ने 'दबंग' की रज्जो के अंदाज में किया फैन्स को करवा चौथ विश, शेयर की तस्वीर

मकबूल (2003)

विशाल भारद्वाज द्वारा निर्देशित, मकबूल शेक्सपियर के प्रसिद्ध नाटक मैकबेथ का रूपांतरण था और इसमें इरफान खान और तब्बू मुख्य भूमिका में थे। ओम पुरी ने नसीरुद्दीन शाह के साथ एक भ्रष्ट पुलिसवाले की भूमिका निभाई।

मालामाल वीकली (2006)

ओम पुरी ने एक किसान का किरदार निभाया था, जिसके हाथ लॉटरी लग जाती है। इसमें उन्होंने बेहतरीन कॉमेडी की थी। प्रियदर्शन द्वारा निर्देशित इस फिल्म में रितेश देशमुख और परेश रावल ने भी अभिनय किया है।

   
 
स्वास्थ्य