Back
Home » Business
आईडीबीआई बैंक : ट्रांजैक्शन फेल हुआ तो कटेगा 20रु
Good Returns | 7th Nov, 2019 06:13 PM

नई द‍िल्‍ली: आईडीबीआई बैंक में अगर आपका भी खाता है तो यह खबर जरूर पढ़ें। प्राइवेट सेक्टर के बैंक आईडीबीआई बैंक ने एटीएम ट्रांजैक्शन से जुड़े नियमों में कुछ बदलाव करने का फैसला लिया है। आईडीबीआई बैंक ने इस संबंध में अपने ग्राहकों को एसएमएस के माध्यम से जानकारी दी है।

1 दिसंबर 2019 से लागू होगा नया न‍ियम

बैंक ने एसएमएस में आईडीबीआई बैंक ने ग्राहकों को कहा है कि अगर वे नॉन आईडीबीआई बैंक एटीएम से पैसे निकालते हैं और यह ट्रांजैक्शन कम बैलेंस होने की वजह से फेल हो जाता है तो ग्राहकों को इसके लिए 20 रुपये प्रति ट्रांजैक्शन चार्ज देना होगा। इतना ही नहीं इसके साथ ही बैंक ने यह भी जानकारी दी है कि एटीएम ट्रांजैक्शन का यह नया न‍ियम 1 दिसंबर 2019 से लागू हो जाएगा।

सीमा से अधिक ट्रांजैक्शन करने पर 20 रुपये प्रति ट्रांजैक्शन चार्ज

जानकारी दें कि प्राइवेट और पब्लिक सेक्टर के अधिकतर बैंक मुफ्त में ही एटीएम ट्रांजैक्शन मुहैया कराते हैं। लेकिन, इसकी एक तल लीमिट करने के बाद ग्राहकों को चार्ज देना होता है। आईडीबीआई बैंक अपने एटीएम पर अनलिमिटेड एटीएम ट्रांजैक्शन की मुहैया कराता है, लेकिन अन्य बैंकों के एटीएम पर यह सीमा एक माह में अधिकतम 5 ट्रांजैक्शन की ही होती है। इस सीमा से अधिक ट्रांजैक्शन करने पर 20 रुपये प्रति ट्रांजैक्शन फाइनेंशियल चार्ज देना पड़ता है। नॉन-फाइनेंशियल चार्ज 8 रुपये प्रति ट्रांजैक्शन होता है।

जानें दूसरे बैंक एटीएम ट्रांजैक्शन पर कितना चार्ज वसूलते

आईडीबीआई बैंक के अलावा अन्य बैंक भी दूसरे बैंकों के एटीएम ट्रांजैक्शन पर चार्ज वसूलते हैं। बैंकों ऑफ बड़ौदा भी इसके लिए 20 रुपये फाइनेंशियल चार्ज और 8 रुपये नॉन-फाइनेंशियल चार्ज के तौर पर वसूलता है।

कोटक महिंद्रा बैंक इसके लिए फाइनेंशियल चार्ज के तौर पर 20 रुपये व जीएसटी और नॉन-फाइनेंशियल चार्ज के तौर पर 8.50 रुपये और जीएसटी वसूलता है।

पंजाब नेशनल बैंक में भी एक माह में अन्य बैंकों से एटीएम ट्रांजैक्शन की अधिकतम सीमा 5 ट्रांजैक्शन है। पीएनबी अन्य बैंकों के एटीएम से तय सीमा से अधिक ट्रांजैक्शन करने पर फाइनेंशियल चार्ज और नॉन-फाइनेंशियल चार्ज के तौर पर 20-20 रुपये वसूलता है।

केनरा बैंक में इसके लिए फाइनेंशियल चार्ज 20 रुपये और नॉन-फाइनेंशियल चार्ज 10 रुपये और जीएसटी है।

   
 
स्वास्थ्य