Back
Home » स्‍वास्‍थ्‍य
बिना धोएं बर्तनों को इस्‍तेमाल करने से सेहत पर पड़ता है बुरा असर, कैंसर होने का मंडराता है खतरा
Boldsky | 13th Nov, 2019 04:41 PM
  • पके हुए तेल को यूज करने से बचें

    तेल को बार-बार पकाने से वह जल जाता है। तेल के रंग में आए बदलाव से यह समझा जा सकता है कि तेल ख़राब हो रहा है। जब तेल का रंग गहरा या काला हो जाए तो उसे खाने लायक नहीं माना जाता। कड़ाही में बचे तेल में दूसरी सब्ज़ी पकाने से पहले इस बात पर ध्यान दें। अगर तेल का रंग बहुत गहरा हो गया है तो उसे फेंक दें। कड़ाही में बचे तेल का दोबारा या कई बार उपयोग करना आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है। तेल का पुन: उपयोग करने से ऐसा हो सकता है कि कुछ मुक्त कणों का निर्माण हो जो आगे चलकर बीमारियों का कारण बन सकते हैं।


  • बिना धुली हुई कड़ाही में भी न पकाएं खाना

    कड़ाही हो या पैन फ्राय में बचे हुए तेल में कुछ भी पकाने से बचना चाहिए। एक ही कड़ाही या पैन में दोबारा खाना पकाने से पहले उसे साफ करें। साबुन, राख और ब्रश से रगड़ कर उसमें चिपकी और जली हुई चीज़ें साफकर हटा दें। इस तरह बर्तन साफ हो जाएगा और दोबारा इस्तेमाल के लिए सुरक्षित होगा।


  • मंडराता है कैंसर का खतरा

    बिना धोएं कड़ाही को फिर से इस्‍तेमाल करने से उनमें जला हुए तेल चिपके हुए रह जाते हैं। उनमें धीरे-धीरे फ्री रेडिकल्स बनने लगते हैं। इन रेडिकल्स के रिलीज़ होने से तेल में एंटी ऑक्सीडेंट ख़त्म हो जाते हैं और बिना धोएं हुए कड़ाही और बड़े बर्तनों का इस्‍तेमाल करना कैंसर का कारण बन सकता है।




खाना पकाते हुए हेल्‍थ के साथ हाईजीन का भी ध्‍यान रखना पड़ता है, क्‍योंक‍ि हेल्‍थ और हाईजीन दोनों एक दूसरे से जुड़े हुए होते हैं। खाने पकाते समय पौष्टिक तत्‍वों पर खूब ध्‍यान द‍िया जाता है। लेकिन कुकिंग के दौरान कुछ गलतियां आपके खाने को अनहेल्‍दी बना सकती हैं। ऐसी ही एक गलती है कड़ाही में बचे तेल में बार-बार खाना पकाना या किसी बर्तन को धोएं बगैर उसे दोबारा इस्‍तेमाल करना। इसके अलावा एक सबसे बड़ी गलती जो अक्‍सर हम समय बचाने की फिराक में कर देते हें।

अक्सर हम किचन में खाना बनाते समय एक ही कड़ाही में अलग-अलग चीज़ें बनाते हैं। किसी सब्ज़ी या तड़के को तैयार करते समय जब कड़ाही में ज़्यादा तेल गिर जाता है तो हम बचे हुए तेल में ही दूसरी चीज़ों को तड़का मारकर पकाने लगते हैं। लेकिन क्या यह हेल्दी है?

   
 
स्वास्थ्य