Back
Home » बॉलीवुड
लॅाकडाउन में 'लता मंगेशकर' को आयी पिता की याद, शेयर की 98 साल पुरानी तस्वीर, लिखा मेरे पिताजी !
Oneindia | 15th May, 2020 03:32 PM
  • लता मंगेशकर का पहला नाम

    लता मंगेशकर का पहला नाम हेमा था। लेकिन जन्म के पांच साल बाद माता-पिता ने इनका नाम लता रख दिया था। लता मंगेशकर ने 5 साल की उम्र में ही संगीत सिखना शुरू कर दिया था।


  • जिम्मेदारी लता के कंधों पर

    साल 1942 में लता मंगेशकर के पिता इस दुनिया को छोड़ गए। इसके बाद घर की पूरी जिम्मेदारी लता के कंधों पर आ गई। कमाई के लिए लता मंगेशकर ने गाने से पहले एक्टिंग करना शुरू कर दिया है।


  • पैसों के लिए किया ये काम

    पैसों की कमी को पूरा करने के लिए लता मंगेशकर ने 1942 से लेकर 1948 तक करीब 8 हिंदी और मराठी फिल्मों में काम किया। एक्टिंग तो वह कर रही थीं, कुछ पैसे भी मिल रहे थे। लेकिन वह खुद को एक्टिंग में देखकर खुश नहीं थीं।


  • गायकी करना आसान नहीं

    लता मंगेशकर के लिए गायकी करना आसान नहीं था। 14 साल की उम्र में लता जी ने फिल्मों में हीरो या फिर हीरोइन की बहन का किरदार निभाया। इसके साथ उन्होंने संगीत की शिक्षा भी हासिल की।


  • लता को पहला फिल्मफेयर पुरस्कार मिला

    1948 में आई फिल्म 'मजबूर' में लता मंगेशकर ने 'दिल मेरा तोड़ा मुझे कहीं का न छोड़ा' गाना गाया। फिर वह केवल सफलता देखती रहीं।मधुमति के सांग आजा रे परदेसी के लिए लता को पहला फिल्मफेयर पुरस्कार मिला।


  • पहली महिला बनीं जिन्हें भारत रत्न

    लता असल मायने में भारत की सुर हैं। खुद को संगीत के जरिए लता ने इस मुकाम पर पहुंचाया कि वह फिल्म इंडस्ट्री की पहली महिला बनीं जिन्हें भारत रत्न और दादा साहेब फाल्के पुरस्कार प्राप्त हुआ।




लॉकडाउन में एक बार फिर से लता मंगेशकर ने एक पुरानी तस्वीर साझा की है। जिसे काफी तेजी से देखा जा रहा है। लता मंगेशकर ने अपनी पुरानी यादों को ताजा कर रही हैं। कई स्टार्स ऐसे हैं जो कि अपनी पुरानी तस्वीरें शेयर कर रहे हैं। ऐसे में लता मंगेशकर ने भी अपने पिता की एक तस्वीर शेयर बताया है कि कैसे उनके परिवार के लिए ये दिन बड़ा गौरव भरा रहा है।

उन्होंने अपने पिता की 98 साल पुरानी तस्वीर शेयर की है इसके साथ उन्होंने एक खास मैसेज भी लिखा है। ट्विटर पर एक पोस्ट लिखते हुए लता मंगेशकर ने लिखा है कि नमस्कार, 14 मई 1922 मतलब आज से 98 साल पहले मेरे पिताजी को श्रीमत जगदगुरु श्री शंकराचार्य डॅाक्टर कुर्तकोटी गंगापुर पीठ नासिक ने अपने पावन हाथों से संगीत रत्न उपाधि प्रदान की थी।

ये हमारे सबके लिए गौरव की बात है। बता दें कि लता मंगेशकर की इस तस्वीर को काफी पसंद किया जा रहा है। उनके पिता संगीत गुरु दीनानाथ मंगेशकर दाने माने शास्त्रीय गायक और रंगकर्मी थे। वह लता दी की पहले संगीत शिक्षक भी रह चुके हैं। पांच साल की उम्र से उनके पिता ने लता को संगीत की शिक्षा दी थी।

यहां देखिए लता मंगेशकर की पुरानी यादगार तस्वीरें...

   
 
स्वास्थ्य