Back
Home » समाचार
औरैया हादसा: श्रमिकों के खून से सनी थी सड़क, तस्वीरें बयां कर रही हैं मौत का दर्द
Oneindia | 16th May, 2020 09:31 AM

औरैया। लॉकडाउन में काम-धंधे बंद हो गए है, जिसके चलते दूसरे प्रदेशों में फंसे प्रवासी मजदूर अपने-अपने राज्यों को लौट रहे है। इस बीच सड़क हादसों की खबरों ने सभी का दिल दहला कर रख दिया है। हाल ही में मुजफ्फरनगर और मध्य प्रदेश गुना में हुए भीषण सड़क हादसे के बाद अब यूपी के औरैया जिले में शनिवार सुबह भीषण सड़क हादसा देखने को मिला है। जहां फरीदाबाद से 81 मजदूरों को लेकर आ रहे खड़े ट्राला में डीसीएम ने टक्कर मार दी। इस हादसे में 24 मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि 35 लोग गंभीर रूप से घायल है। आगे देखिए तस्वीरें-

शनिवार सुबह भीषण सड़क हादसा दिल्ली-कोलकाता हाईवे पर एक ढाबे के पास चाय पीने को रुकी मजदूरों से भरी डीसीएम में एक ट्रॉले ने टक्कर मार दी। हादसे में अब-तक 24 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं 22 लोगों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। गंभीर हालत होने के कारण 15 लोगों को सैफई रेफर किया गया है।

हादसा औरैया कोतवाली क्षेत्र के चिरूहुली के पास की है। घटना की जानकारी मिलते ही जिला प्रशासन मौके पर पहुंचा। ट्रॉले में सभी प्रवासी मजदूर सवार थे। एक-एक कर चूने में दबे शवों को निकाला जा रहा है। डीसीएम गाजियाबाद से 20 मजदूरों को लेकर मध्य प्रदेश के सागर जा रहा था। जबकि चूना लदा ट्रॉला राजस्थान से पश्चिम बंगाल के लिए चला था। इसमें करीब 70 मजदूर सवार थे।

हादसे में मरने वालों में राहुल पुत्र विभूति निवासी गोपालपुर थाना पिंडा जोरा झारखंड, नदकिशोर, कनी लाल पिंडा जोरा झारखंड, केदारी यादव पुत्र मुन्ना यादव निवासी बारा चट्टी बिहार, अर्जुन यादव, राजा गोस्वामी, मिलन निवासी पश्चिम बंगाल, गोवर्धन पुत्र गोरांगो, अजीत पुत्र अमित निवासी पशिम बंगाल, चन्दन राजभर, नकुल महतो, सत्येंद्र निवासी बिहार, गनेश निवासी पुरुलिया पश्चिम बंगाल, उत्तम, सुधीर निवासी गोपालपुर, डॉक्टर मेहती, मुकेश, सोमनाथ गोस्वामी आदि शामिल हैं।

प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो टक्कर की तेज आवाज सुनाई दी। इसके बाद चीख पुकार ने सभी को अपनी ओर खींच लिया। लोग जब मतदूरों को निकाल रहे थे तो फंसे हुए लोग अपने बचाव के लिए गुहार लगाते हुए दिखाई दिए। घटनास्थलपर चारों ओेर खून ही खून फैला था।

ये भी पढ़ें:- बीमार बेटे को चारपाई पर लेकर लुधियाना से एमपी की तरफ पैदल ही चल पड़ा लाचार पिता

   
 
स्वास्थ्य