Back
Home » ताजा
TikTok वीडियो में एसिड अटैक को बढ़ावा देने वाले फैज़ल का अकाउंट हुआ बैन
Gizbot | 20th May, 2020 04:15 PM

टिकटॉक पर वीडियो बनाने के लोकप्रिय हुए फैज़ल सिद्दिकी का टिकटॉक अकाउंट सस्पेंड कर दिया गया है। फैज़ल के बारे में हमने आपको कल ही ख़बर बताई थी कि उनके ऊपर टिकटॉक वीडियो के जरिए महिलाओं के ऊपर एसिट अटैक की घटना को ग्लोरिफाई करने का आरोप है।

टिकटॉक पर ऐसी वीडियो अपलोड और शेयर होने के बाद महिला आयोग ने इसकी शिकायत टिकटॉक इंडिया और महाराष्ट्र पुलिस से की और इस पर तुरंत कार्यवाई करने की मांग की। आपको बता दें कि सिर्फ NCW ने ही नहीं बल्कि कई सेलेब्रिटीज़ ने भी फैज़ल के इस वीडियो की कड़ी निंदा की।

फैज़ल का टिकटॉक अकाउंट सस्पेंड

चारों तरफ से होती जा रही लगातार आलोचनाओं के बाद टिकटॉक ने कदम उठाते हुए एसिड अटैक वाली उस वीडियो और क्रिएटर फैज़ल सिद्दिकी दोनों को अपने ऐप से बैन कर दिया है। गैजेट्स 360 के मुताबिक इसके बारे में जानकारी देते हुए टिकटॉक ने कहा कि, इस विवाद के बढ़ते ही सबसे पहले 18 मई को फैज़ल के अकाउंट से उस वीडियो को डिलीट किया गया। उसके बाद टिकटॉक ने भी वीडियो और क्रिएटर दोनों को अपने ऐप पर बैन कर दिया ।

टिकटॉक ने इस कार्यवाई के बारे में जानकारी देते हुए अपने बयान में कहा कि, लोगों को सुरक्षित रखना उनके लिए सर्वोच्च प्राथमिकता है। पॉलिसी के अनुसार वो ऐसे कंटेंट का समर्थन नहीं करते हैं, जो दूसरों की सुरक्षा को खतरे में डालता है। टिकटॉक ने कहा कि उसने उस विवादित वीडियो को डिलीट कर दिया है और उस अकाउंट को भी बैन कर दिया है। इसके अलावा इस मामले में सभी जरूरी कानूनी एजेंसियों के साथ मिलकर काम भी किया जा रहा है।

टिकटॉक के इस यूज़र्स फैज़ल सिद्दिकी के बारे में बता दें कि ये टिकटॉक वीडियो बनाने वाले एक्टिव यूज़र्स में से एक हैं। फैज़ल को टिकटॉक पर 13.4 मिलियन लोग फॉलो करते हैं। फैज़ल ने टिकटॉक पर एक वीडियो अपलोड की है, जिसमें वो एक लड़की पर एसिट अटैक करके उसे एक अच्छा काम यानि ग्लोरिफाई करते हुए नज़र आ रहे हैं।

टिकटॉक को बैन करने की मांग शुरू

गौर करने वाली बात है कि ये पहली बार नहीं है कि टिकटॉक वीडियो को बैन करने की मांग उठी है। टिकटॉक को बैन करने की मांग पहले भी कई बार उठ चुकी है। इससे पहले मद्रास हाई कोर्ट ने भी इस ऐप यानि टिकटॉक पर अश्लील कंटेंट अपलोड करने के आरोप में इसे बैन करने की मांग की और फिर इसे बैन लगा दिया था।

मद्रास हाई कोर्ट के द्वारा इस ऐप पर बैन लगाने के बाद इस ऐप ने आर्थिक तंगी का हवाला देकर अपने ऐप से बैन हटा लिया था। अब इस बार फिर टिकटॉक को बैन करने की मांग ने तूल पकड़ा है। अब देखना होगा कि आगे टिकटॉक के बारे में क्या फैसला लिया जाता है।

   
 
स्वास्थ्य