Back
Home » Business
चीन पर कोरोना का कहर, पहली बार तय नहीं किया जीडीपी लक्ष्य
Good Returns | 23rd May, 2020 03:54 PM

नयी दिल्ली। कोरोनावायरस ने दुनिया भर की अर्थव्यवस्था को तहस-नहस कर दिया है। जानकारों का मानना है ये महामारी पिछले 100 सालों की सबसे बड़ी मंदी ला सकती है। कोरोना से चीन की जीडीपी भी काफी प्रभावित हुई है। कोरोना ने चीन को कितना प्रभावित किया है इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि चीन ने इस साल वार्षिक आर्थिक वृद्धि लक्ष्य निर्धारित नहीं करने का फैसला किया है। 1990 में दर्ज होने की शुरुआत के बाद से यह पहली बार है जब चीन ने सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का लक्ष्य तय नहीं किया है। चीन का यह फैसला शुक्रवार को सामने आया था जब प्रीमियर ली केचियांग ने देश की वार्षिक संसद की बैठक में प्रस्तुत की गई कार्य रिपोर्ट में जीडीपी लक्ष्य को छोड़ दिया।

6.8 फीसदी घटी इकोनॉमी

रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार प्रीमियर ली ने कहा कि हमने इस साल के लिए इकोनॉमिक ग्रोथ के लिए कोई निश्चित लक्ष्य तय नहीं किया। इसके पीछे जो मुख्य वजह बताई गईं उनमें वैश्विक महामारी की स्थिति और आर्थिक और व्यापार का बहुत अधिक अनिश्चित होना शामिल है। साथ ही चीन का विकास कुछ अप्रत्याशित कारकों का सामना कर रहा है। लॉकडाउन के कारण कारोबारी गतिविधियों पर रोक लगने से जनवरी-मार्च तिमाही में चीन की वायरस प्रभावित अर्थव्यवस्था में 6.8 प्रतिशत की गिरावट आई।

90 लाख नौकरियों का लक्ष्य

चीन ने जीडीपी के लिए कोई लक्ष्य नहीं रखा है, मगर इसने इस साल 90 लाख से अधिक शहरी नौकरियों का लक्ष्य रखा है, जो 2013 के बाद सबसे कम और 2019 में तय किए गए कम से कम 1.1 करोड़ नौकरियों से कम है। नौकरियां जाने से सामाजिक स्थिरता बिगड़ने की चिंता के बीच नेशनल पीपुल्स कांग्रेस की हफ्ते भर चली बैठक से पहले चीन के शीर्ष नेताओं ने अर्थव्यवस्था को बढ़ाने के लिए प्रोत्साहन को बढ़ावा देने का वादा किया। इधर चीन का अमेरिका के साथ फिर से व्यापार तनाव बढ़ रहा है।

चीन की कंपनियों को बड़ा ऑफर, भारत आओ हाथों-हाथ जमीन पाओ

   
 
स्वास्थ्य